library

library

library2

library2

DSC_1141

DSC_1141

190_01643 copy

190_01643 copy

BED#

BED#

Computer-Lab

Computer-Lab

gard room

gard room

harit-pattika

harit-pattika

Play-Ground1

Play-Ground1

Play-Ground2

Play-Ground2

Play-Ground5

Play-Ground5

100_1679

100_1679

BEd

BEd

kala-sankay

kala-sankay

Facility

पुस्तकालयः

महाविद्यालय में एक विषाल पुस्तकालय है। पुस्तकालय में श्रेश्ट लेखकों की बी00/बी0एससी0, बी0एड0 एवं प्रायोगिक परीक्षा की लगभग 8000 पुस्तकें विभिन्न प्रकाषकों की उपलब्ध हैं, जिसमें सन्दर्भ ग्रन्थ, पाठ्यग्रन्थ, शोध-पत्र, शोधग्रन्थ आदि सम्मलित है। महाविद्यालय में निरन्तर पुस्तकालय में प्रतिदिन विभिन्न समाचार पत्र दैनिक जागरण कानपुर, दैनिक अमर उजाला हिन्दुस्तान, द टाइम्स आफ इण्डिया, नव कर्मयुग, बुन्देलखण्ड उजाला आदि प्रमुख पेपर आते हैं। मासिक पत्रिकायें क्रॉनिकल प्रतियोगिता दर्पण, विज्ञान दर्पण, इण्डिया टुडे, योजना, रोजगार समाचार, आदि छात्रों के अध्ययन के लिये उपलव्ध रहती हैं।

वाचनालयः

महाविद्यालय में एक पृथक वाचनालय कक्ष की व्यवस्था है। जिसमें छात्र/छात्रायें विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं का अध्ययन कर सकते है। छात्र/छात्राओं में अध्ययन की अभिरूचि को जाग्रत करने एवं उनके ज्ञान संवर्धन हेतु विभिन्न प्रतियोगिताओं एवं पुस्तक प्रदर्षन आदि का आयोजन किया जाता है। वाचनालय की सुविधा प्रत्येक कार्य दिवस में ही उपलब्ध है।

प्रसार व्याख्यान मालाः

छात्र/छात्राओं के बहुमुखी विकास हेतु प्रसार व्याख्यान माला के अन्तर्गत विभिन्न विषयों के मर्मज्ञ विद्वानों, बुद्विजीवियों के साथ महाविद्यालय में विचार गोष्ठियों, सेमीनार, सिम्पोजियम का आयोजन होता है। साहित्यिक संस्कृति एवं नैतिक दुष्टियों से विभिन्न अवसरों पर लेखन, वाचन, भाव, अभिनय एवं नाना प्रकार की प्रतियोगिताओं का आयोजन होता है। जिसमें निबन्ध, भाषा विचार, गोष्ठी सुलेख, चार्ट, बंधेज, अल्पना, मेंहदी, वृक्षारोपण, नारे, पुष्पसज्जा, नाटक, एकांकी, नृत्य आदि मुख्य है।

राष्ट्रीय सेवा योजना (एन0एस0एस0)

महाविद्यालय में राश्ट्रीय सेवा योजना एन0एस0एस0 की तीन इकाई कार्यरत है। इस योजना का उद्देष्य छात्र/छात्राओं में समाज सेवा की भावना का विकास, नेतृत्व की क्षमता, आत्मविष्वास, उत्पन्न करना एवं ग्रामीण परिवेष से परिचित कराना है। इस योजना के अन्तर्गत प्रतिवर्ष निकटवर्ती ग्रामीण अंचलों में सात दिवसीय विषेष षिविर का आयोजन किया जाता है तथा 120 घंटो का सामान्य कार्यक्रम सम्पन्न कराया जाता है।

                एन0एस0एस0 के दो विषेष षिविर तथा 240 घंटे के सामान्य कार्यक्रमों में भाग लेने वाले छात्र/छात्राओं को विष्वविद्यालय से प्रमाण पत्र प्रदान किया जाता हैं। यह प्रमाण पत्र अर्जित कर लेने पर विभिन्न सरकारी विभागों में नियुक्तियों के साथ तथा बी0एड0 पाठ्यक्रम में प्रवेष हेतु वरीयता अंक प्रदान किये जाते है।

रेड रिबन क्लबः

एड्स जैसी भयानक तथा जानलेवा बीमारी के विषय में छात्र/छात्राओं को जागरुक करने के लिये तथा एड्स से बचाने के लिये महाविद्यालय में रेड रिबन क्लब की स्थापना की गयी है। जिसमें समय-समय पर एड्स के विषय में छात्र/छात्राओं को जागरुक कराने के लिये छात्र/छात्राओं को विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से जानकारी प्रदान की जाती है। इन कार्यक्रमों में रक्तदान, पेन्टिंग, रंगोली, कार्टून, वाद-विवाद एवं निबन्ध आदि प्रतियोगितायें सम्मिलित है।

ज्यूडीषियल क्लबः­

छात्र/छात्राओं को अपने अधिकारों से परिचित कराने के लिये तथा किसी भी प्रकार के शोषण से बचाने के लिये विषेष रुप से महिलाओं को, इसके लिये महाविद्यालय में ज्यूडीषियल क्लब की स्थापना की गयी है। इसमें छात्र/छात्राओं के पास पडोस में होने वाले अन्याय तथा अत्याचार से सम्बन्धित प्रकरण भी शामिल है। ऐसे मामलों को छात्र/छात्राओं द्वारा महाविद्यालय के एन0एस0एस0 प्रभारी के संज्ञान में लाये जाने पर सीधे जिला जज के स्तर से कार्यवाही किये जाने का प्रावधान है।

क्रीडा एवं शारीरिक षिक्षाः

महाविद्यालय में  खेल का विषाल मैदान उपलब्ध है सभी प्रकार के इनडोर खेलों-बैडमिन्टन, टेबिल टेनिस, कैरम, शतरंज इत्यादि की सुविधा एवं सभी आउटडोर खेलों में बालीवॉल, फुटबाल, बास्केट बॉल, खो-खो, कबड्डी, हॉकी, क्रिकेट इत्यादि की व्यवस्था।

हरित पट्टिका/उद्यानः

महाविद्यालय में विषाल उद्यान है जहॉ विभिन्न प्रकार के पेड़् पौधे, चारो तरफ लगे हुये हैं। विभिन्न प्रकार के सुगन्धित पुष्प जो अपनी सुगन्ध की छटा फैलाते रहते है। फलदार छायादार बृक्ष अपनी मोहकता को और बढा देते हैं। विभिन्न प्रकार की हरित घास उद्यान की सुन्दरता को बढा देते हैं।

राज राजेष्वर षिव मंदिरः

डिग्री कालेज एवं इण्टर कालेज के मध्य विषाल प्रांगण में भगवान भूतभावन की षिवलिंग प्रतिमा का अत्यन्त सुन्दर आधुनिक शैली से निर्मित विषाल मंदिर है। जिसकी स्थापना 07 मार्च 2011 को फाल्गुन शुक्ल 2, 2067 को की गयी।